ज़मीन से की जीवन की एक नई शुरुआत, आज पत्रकार से उपसभापति बने हरिवंश नारायण सिंह

New Delhi: एनडीए के उम्मीदवार हरिवंश नारायण को राज्यसभा को उपसभापति नियुक्त किया गया । इन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद को 20 वोटों से हरा दिया है। 244 सदस्यीय उच्च सदन में केवल 232 सदस्य ही मौजूद थे। विपक्ष की ओर से उम्मीदवार रहे बी के हरिप्रसाद के 105 मतों के मुकाबले इन्हें 120 मत मिले।

बलिया के सिताबदियारा गांव के रहने वाले हरिवंश का जन्म 30 जून 1956 में हुआ था । इनका पूरा नाम हरिवंश नारायण सिंह है। इन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा गांव से पूरी की । हाईस्कूल पास करने के बाद सन् 1971 में ये वाराणसी पहुंचे। जहां यूपी कॉलेज से इंटरमीडिएट और उसके बाद काशी हिंदू विश्वविद्यालय से स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा की पढ़ाई की।

वर्ष 1977-78 में इनका चयन ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ समूह के मुंबई में एक प्रशिक्षु पत्रकार के रूप में हुआ था । टाइम्स समूह की साप्ताहिक पत्रिका ‘धर्मयुग’ में उपसंपादक रहे । 1981 में पत्रकारिता का करियर छोड़कर बैंकिग के क्षेत्र में आ गये और 1981 से 1984 तक बैंक ऑफ इंडिया की अलग-अलग शाखाओं में काम किया परन्तु वहां भी ज्यादा दिन टिक न सके और वापस पत्रकारिता क्षेत्र में आये और आनंद बाजार पत्रिका’ समूह की एक साप्ताहिक पत्रिका ‘रविवार’ में सहायक संपादक रहे।

25 साल से ज़्यादा समय तक प्रभात खबर के प्रधान संपादक रह चुके जेडीयू सांसद हरिवंश नारायण सिंह को जेडीयू की ओर से 2014 में बिहार से राज्यसभा के लिये चुना गया, बाद में इन्हें देश के पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के अतिरिक्त सूचना सलाहकार के रूप में भी चुना गया। नीतीश कुमार के खास माने जाने वाले हरिवंश वर्तमान में वह जेडीयू के महासचिव भी है जिसका कार्यकाल अप्रैल 2020 में पूरा होगा। ये जयप्रकाश नारायण (जेपी) और उनके आन्देलनों से बहुत ज्यादा प्रभावित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *