अतिथि देवो भव:इस शख्स को मिला नोटों से भरा वॉलेट,ढूंढा पता,लौटाकर कहा-welcome To India सर जी..

New Delhi: रास्ते में 100 रुपए का नोट किसी को गिरा हुआ मिल जाए तो भला ऐसा मौका छोड़ता है, लेकिन अगर किसी को 2000 के नोटों की गड्डियों से भरा एक बैग मिल जाए तो? चंद सेकेंड में वह सातवें आसमान पर पहुंच जाएगा। लेकिन यहां मामला कुछ और है।

आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बता रहे हैं जिन्होंने विदेशियों के मन में भरी भारतीयों को लेकर गलतफहमी के बीच थोड़ा सा प्यार भर दिया है। जानते हैं कैसे? चलिए बताते हैं। ये हैं श्री जेपी भाउसर। इंडियन आर्मी से जुड़ी ऑर्डनेंस ब्रांच दिल्ली में काम करते हैं। ऑफिस जाने की हड़बड़ी थी, ऑफिस के लिए लेट हो रहे थे। किसी तरह टाइम मैनेज करके घर से निकले और दिल्ली मेट्रो पहुंचे। मेट्रो में कदम रखा ही था कि उनकी नजर एक कोने पर पड़ी। उन्होंने देखा वहां किसी का पर्स पड़ा था, रुपयों से लदा हुआ। जिसके अंदर एकदम कड़कड़ाते नोट। अब इनकी जगह कोई और होता तो वही करता जो आप अभी सोच रहे हैं।

लेकिन जेपी ने सबसे पहले पर्स को खंगालना शुरू किया। पर्स में वह कुछ और ही चीज ढूंढ रहे थे। ऐसी चीज जो उनके सामने रूपयों से भी बड़ी थी। और वो थी पर्स के मालिक का पता। पर्स के असली मालिक का पता तो मिल गया पर दिक्कत यह थी कि वह एक कोरियाई टूरिस्ट था। अब हाथ में नोटों से भरा पर्स और ऐसा पता जो कि विदेशी का था। अब जेपी सोच में पड़ गए कि नोट वहां तक कैसे पहुंचाएं। जेपी ने उस दिन ऑफिस जाने का प्लान ही कैंसल कर दिया। फिर शुरू मिशन ‘पैसे रिटर्न’ करने की। कहते हैं ना पर्स में मौजूद आइडेंटिटी कार्ड्स की बदौलत कोरियाई व्यक्ति को ढूंढने निकल पड़े।

हालांकि थोड़ी मेहमत करनी पड़ी। लेकिन थोड़ी जद्दोजहद के बाद ही उन्हें पर्स के मालिक का नंबर मिल ही गया। उसे फोन मिलाया और बताया कि उनके पैसे सुरक्षित हैं, फिर तो भाई उसकी खुशी का ठिकाना ना रहा। जेपी ने उसे बुलाया और उसे उसका पर्स थमा दिया। कोरियाई टूरिस्ट ने जेपी के साथ सेल्फी ली और सोशल मीडिया पर अपलोड किया। सोशल मीडिया पर फोटो डालते हुए टुरिस्ट ने लिखा के जब मैंने जेपी को कुछ पैसे देने की बात कही, लेकिन उसने मना कर दिया। जब टुरिस्ट जाने लगा तो जेपी ने मुस्कुराते हुये कहा “Welcome to India” ।

बीते कुछ महीनों में लगातार आ रही विदेशी महिला के साथ भारत में फैली रेप की भ्रष्टाचार की खबरों ने विदेशियों के मन में भारतीयों के लिए एक अलग इमेज बना दी थी, लेकिन अब जेपी की ये इमानदारी ने विदेशियों की मानसिकता को बदल दी। इस खबर ने पूरे कोरियाई में धूम मचा दी है। जेपी भाउसर की यह तस्वीर ईमानदारी की जीती जागती मिसाल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *