मिजोरम को मिला पहला मेडिकल कॉलेज, मुख्यमंत्री लालथन हावला ने किया भव्य उदघाटन

New Delhi: कॉलेज के निदेशक लल्लूखम फिमेते ने कहा हर साल 100 स्टूडेंट्स को दिया जाएगा प्रवेश, जिसमें क्रमशः 15-15 फीसदी सीटें जनरल और एनआरआई के लिए आरक्षित होंगी और 70 फीसदी सीटें यहां के लोकल विद्यार्थियों के लिए होंगी। उन्होंने बताया कि इस वर्ष सभी सीटों के लिए एडमिशन किया जा चुका है।

भारत के यूनियन टेरिटरी में शुमार मिजोरम 1986 में संविधान संशोधन के बाद फरवरी 1987 में भारत के 23वें राज्य के रूप में अपने अस्तित्व में आया और इतने लम्बे अंतराल के बाद आख़िरकार मिजोरम को पहला मेडिकल कालेज अब मिल गया। गत दिन राज्य के मुख्यमंत्री लालथन हावला ने मिजोरम इंस्टिट्यूट आफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (MIMER) का राजधानी आइजोल के फाल्कन में भव्य उद्घाटन किया। उदघाटन समारोह में उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए सीएम हावला ने इस दिन को ऐतिहासिक कहा।

उन्होंने कहा कि आख़िरकार इस बहुप्रतीक्षित मेडिकल कालेज को हमने शुरू कर दिया और आगे ये भी कहा कि अभी तो ये सिर्फ शुरुआत है जितनी इसे शुरू करके हमें ख़ुशी हो रही है उतनी आशा भी है हम इस मेडिकल कालेज को देश के सबसे अच्छे मेडिकल कालेजों में से एक बनाएंगे जिससे लोग इसकी वजह से मिजोरम पर गर्व करेंगे। मिजोरम के हेल्थ मिनिस्टर लाल थंजारा ने कहा कि मिजोरम जैसे राज्य के लिए एक मेडिकल कालेज का सेट-अप तैयार करना कोई आसान काम नहीं था, सरकार की उपलब्धियों को बताते हुए उन्होंने इसे मील का पत्थर बताया। साथ ही इसे स्वास्थ्य विभाग और राज्य सरकार के संयुक्त प्रयासों का सफल परिणाम बताया।

मिजोरम के इस पहले मेडिकल कालेज में मेडिकल, टेक्निकल , एडमिनिस्ट्रेटिव स्टाफ के साथ ही साथ टीचिंग स्टाफ को शामिल करते हुए कुल 345 लोगों को नियुक्त किया गया है। इस वर्ष कालेज एनआरआई स्टूडेंट्स को सम्मिलित करते हुए एमबीबीएस के कुल 70 स्टूडेंट्स के साथ शुरू होगा। कालेज के निदेशक लल्लूखम फिमेते के अनुसार शुरू में हर साल 100 स्टूडेंट्स को प्रवेश दिया जाएगा, जिसमें क्रमशः 15-15 फीसदी सीटें जनरल और एनआरआई के लिए आरक्षित होंगी और 70 फीसदी सीटें यहां के लोकल विद्यार्थियों के लिए होंगी। उन्होंने बताया कि इस वर्ष सभी सीटों के लिए एडमिशन किया जा चुका है। इस कालेज के सेट-अप में कुल 210 करोड़ का खर्च आया है। इसमें तीन डिपार्टमेंट एनोटॉमी, फिजिओलॉजी और बायोकेमिस्ट्री के साथ ही 250 बेड का जनरल मेडिसिन, पीडियाट्रिक्स, टूबर्क्युलोसिस और रेस्पिरेटरी डिसीस वाला हॉस्पिटल भी बनाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *