फेमस सिंगर ने मंच से गाया शराब वाली गीत, नाराज नीतीश ने कहा, फौरन बंद करो ये गाना

PATNA : शराबबंदी को नीतीश कुमार ने अपनी पहचान बना ली है। शराब का नाम सुन कर ही उनके चेहरे पर नाराजगी झलकने लगती है। अगर उनके सामने किसी ने शराब की तारीफ कर दी तब फिर उनके गुस्से का आलम पूछिए मत। एक बार जब अनूप जलोटा नीतीश कुमार के सामने शराब की शान में गजल गाने लगे तो उन्होंने फौरन हस्तक्षेप किया और जलोटा को गजल गाने से रोक दिया।

नीतीश कुमार अनूप जलोटा के प्रशंसक रहे हैं। उनके भजन के सीएम फैन रहे हैं। 2016 में दशहरा महोत्सव में अनूप जलोटा पटना आये थे। कार्यक्रम की शुरुआत भजन से हुई। सीएम नीतीश कुमार बड़ी तन्मयता से उन्हें सुन रहे थे। तभी दर्शक दीर्घा में से किसी गजल की फरमाइश कर दी। अनूप जलोटा ने शुरू किया- जाम चलने लगे, दिल मचलने लगे, अंजुमन झूम उठी, बज्म लहरा गयी… इतना सुन कर नीतीश कुमार का ध्यान भंग हुआ। अरे ! जलोटा साहब तो जाम छलकाने लगे । नीतीश कुमार ने तुरंत गाना रोकने का फरमान सुनाया। आयोजन से जुड़े एक सज्जन मंच पर गये और अनूप जलोटा को गजल रोकने का संकेत दिया।

अनूप जलोटा अचानक रोके जाने का मतलब नहीं समझ पाये। बाद में उन्हें बताया गया कि बिहार में शराबबंदी है। यहां शरीब पीना, रखना और उसका गुणगान करना मना है। शराब के खिलाफ आखिर नीतीश कुमार इतने आक्रामक क्यों हैं ? एक बार उन्होंने इसकी वजह का खुलासा किया था। नीतीश कुमार ने अच्छे नम्बरों से मैट्रिक पास किया था इस लिए उन्हें बिहार के टॉप, कॉलेज सायंस कॉलेज में दाखिला मिल गया। शुरू में उन्हें हॉस्टल नहीं मिला था इस लिए वे पटना के मुसल्लहपुर हाट के कृष्णा लॉज में रहते थे। उस लॉज के आसपास झुग्गी झोपड़ी वाले लोग रहते थे। महीने के शुरू में उनके पास पैसा रहता था और वे शराब में टुन्न रहते थे। शराब पी कर वे लॉज के आसपास जुट जाते और भद्दी-भद्दी गालियों के साथ झगड़ा शुरू कर देते।

उनके हंगामे और गाली- गलौज की आवाज लॉज के कमरे में भी आती थी। उसी समय नीतीश को अनुभव हुआ कि शराब पीने के बाद आदमी कितना नीचे गिर जाता है। शराब के खिलाफ तभी से उनके मन में एक धारणा बन गयी। नीतीश कुमार के मन में दबी इस बात को 2015 में कुछ महिलाओं ने उभार दिया। जहानाबाद की एक महिला प्रतिनिधिमंडल ने उनसे मिल कर शराब पर रोक लगाने की मांग की।

Source: bihari

Source: wplivebihar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *